मंगलवार, 16 सितंबर 2014

"इक क़सक जो अधूरी रह गयी" - मेरी १००वी रचना

तू साथ थी फिर भी तेरे हम-नवां(१) ना हो पाये
तुझ से दूर हुए फिर भी तुझसे जुदा ना हो पाये
हर वक़्त तुझे पलकें मूँदे किसी के सजदे में ग़ुम देखा
आखिर में मेरे गुमाँ(२) निकले पर तेरे ख़ुदा ना हो पाये
हज़ारों खतायें की होंगी तेरे जानिब(३) रह कर भी
बेइन्तेहाँ तग़ाफ़ुल(४) किये होंगे तुझे अपना कह के भी
ना जाने कितनी गिरहें(५) उलझ गयीं इन बीते लम्हों में
वक़्त गुज़ारते हैं इन्हे खोलने में पर बेवफा ना हो पाये
जब बिछड़ रहे थे तुझसे आँखों में नमी लिए
मुसल्सल(६) उम्मीद थी काश तुझे आग़ोश में ले पाएं
तुझ पे लिखे कुछ लफ्ज़ जो होटों पे लरज़ते रहे
अफ़सोस जुदा होते हुए भी वो ग़ज़ल ना कह पाये
खुदा मुझे या तो तुझे बख़्शे या करा दे मौत नसीब
बस एक बार दीदार हो और हम ये कह पाएं

*********************************************************************

(१) अपनापन (२) धोखा (३) पास (४) तिरस्कार (५) गाँठें (६) सरासर

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा ग़ज़ल।
    --
    100वीं पोस्ट की बधाई हो आपको।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमेशा कि तरह आपके लिखे हर्फ़ पढ़े और जुबां से "सुभान" के सिवा कुछ न निकला..

    उत्तर देंहटाएं
  3. हज़ारों खतायें की होंगी तेरे जानिब(३) रह कर भी
    बेइन्तेहाँ तग़ाफ़ुल(४) किये होंगे तुझे अपना कह के भी ..sundar !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना..100वीं पोस्ट की बधाई आपको सुरेन्द्र।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रचना..100वीं पोस्ट की बधाई

    तू साथ थी फिर भी तेरे हम-नवां(१) ना हो पाये
    तुझ से दूर हुए फिर भी तुझसे जुदा ना हो पाये

    उत्तर देंहटाएं
  6. हज़ारों खतायें की होंगी तेरे जानिब(३) रह कर भी
    बेइन्तेहाँ तग़ाफ़ुल(४) किये होंगे तुझे अपना कह के भी

    आपकी रचना के हरेक अल्फाज मन में समा गए। आपके भावों की कद्र करते हुए
    आपके जज्बे को सलाम करता हूं, सुरेंद्र भाई। शुभ रात्रि।

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या कहने, बहुत सुंदर रचना
    कविता का भाव और प्रस्तुतिकरण बेजोड़.....100वीं पोस्ट की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. Congrats on your 100th poem...thoughtful and well presented with deep underlying meanings! Keep writing!

    उत्तर देंहटाएं