शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

यादों के धागे!

जब मौत का पैगाम आये,
फ़रिश्ते मोड़े नहीं जाते,
दूर रह के हर रिश्ता तोड़ दो,
एहसासों के रिश्ते तोड़े नहीं जाते,
दुआ है तुझे भूलने से पहले,
सासें टूट जाएँ मेरी,
इक बार जो टूटे दिल के,
टुकड़े जोड़े नहीं जाते,
हर ज़ख्म सहने की,
हिम्मत जोड़ लेते हैं,
कुछ ज़ख्म ऐसे होते हैं,
खुल्ले छोड़े नहीं जाते,
गर जुदा भी हुए कभी,
बस बदन ही अलग होंगे,
इतने पक्के यादों के धागे,
ज़माना लाख कोशिश कर ले,
कभी तोड़े नहीं जाते...
कभी तोड़े नहीं जाते!

21 टिप्‍पणियां:

  1. हर ज़ख्म सहने की,
    हिम्मत जोड़ लेते हैं,
    कुछ ज़ख्म ऐसे होते हैं,
    खुल्ले छोड़े नहीं जाते,

    bahut sundar ash-aar ..badhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. Hello ji,

    "कुछ ज़ख्म ऐसे होते हैं,
    खुल्ले छोड़े नहीं जाते"

    Atti sundar!!

    Yaadein - kahin kisiko jeene nahi deti aur kahin kisiki ki maut ka kaaran bann jaati hai...

    Topic kaafi sensitive liya hai iss baar...

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  4. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. गहरे भाव लिए हुए
    सुन्दर रचना के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह!! लाजवाब रचना .......प्रत्येक पंक्तियाँ में बहुत गहराई है .

    उत्तर देंहटाएं
  7. agree with dimple ...topic sensitive hain....lekin nibhaya aapne

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ ज़ख्म ऐसे होते हैं,
    खुल्ले छोड़े नहीं जाते..
    लाजवाब पंक्तियाँ! बहुत ही गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने उम्दा रचना लिखा है! आपकी लेखनी को सलाम!

    उत्तर देंहटाएं
  9. दूर रह के हर रिश्ता तोड़ दो,
    एहसासों के रिश्ते तोड़े नहीं जाते,
    bahut acha likha hai..
    waise ahesaas hi rishton ko band kar rakhte hain!!!
    ahesaas kahatam to rishta bhi khatam.
    good composition..

    उत्तर देंहटाएं
  10. bilkul sach likha hai aap ne....i agree
    or abhivyakti aise ki kisi ko bhi rula de
    bhtarin

    उत्तर देंहटाएं
  11. जब मौत का पैगाम आये,
    फ़रिश्ते मोड़े नहीं जाते,
    दूर रह के हर रिश्ता तोड़ दो,
    एहसासों के रिश्ते तोड़े नहीं जाते,
    Kya baat hai!Kamal kar deten hain aap...!

    उत्तर देंहटाएं
  12. इतने पक्के यादों के धागे,
    ज़माना लाख कोशिश कर ले,
    कभी तोड़े नहीं जाते...behtreen rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  13. bhaut sahi kaha lakh chaho nahi tos sakte hai kuch dhago ko

    उत्तर देंहटाएं
  14. गर जुदा भी हुए कभी,
    बस बदन ही अलग होंगे,
    इतने पक्के यादों के धागे,
    ज़माना लाख कोशिश कर ले,
    कभी तोड़े नहीं जाते...


    very true

    -Shruti

    उत्तर देंहटाएं
  15. "कुछ ज़ख्म ऐसे होते हैं,
    खुल्ले छोड़े नहीं जाते"

    बहुत सुंदर चित्रण

    कभी अजनबी सी, कभी जानी पहचानी सी, जिंदगी रोज मिलती है क़तरा-क़तरा…
    http://qatraqatra.yatishjain.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. इक बार जो टूटे दिल के,
    टुकड़े जोड़े नहीं जाते..

    बढिया; बहुत खूब. भाव अच्‍छे लिए और शब्‍दों का चयन शानदार.
    शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं