रविवार, 29 नवंबर 2009

आ तुझे अपना बनाएं हम!

दुनिया से दूर सितारों के क़ल्ब(१) में,
चलो इक आशियाँ बनाएं हम,
चमचमाती रौशनी फराहम(२) कर के,
सपनो का महल सजायें हम,
चांदनी के नूर से कुछ रंगत ले के,
मुहब्बत के दिए जलायें हम,
सूरज की सुनहरी कशिश ले के,
रंग-ऐ-रुखसार अफज़ा(३) कराएं हम,
गम-ऐ-फुरक़त (४) से कोसों दूर जा के,
गुफ्त-ऐ-शानीद-ऐ-मुहब्बत(५) में खो जायें हम,
जिस रात हूरें जुल्फों पे तेरी अफशां(६) करें,
उसी रात तुझे आगोश में ले अपना बनाएं हम!
*************************************************************************
(१) दिल (२) इकठ्ठा (३) बढ़ाना (४) जुदाई (५) मुहब्बत की गहरी बातें (६) सुनहरे पानी की फुहार
*************************************************************************

8 टिप्‍पणियां:

  1. A brilliant display of words and very meaningful indeed...full of emotions and dreams to fulfill.
    I fully enjoyed the excellently woven words.

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत ख्याल की मानिंद ग़ज़ल ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुनिया से दूर सितारों के क़ल्ब(१) में,
    चलो इक आशियाँ बनाएं हम,
    चमचमाती रौशनी फराहम(२) कर के,
    सपनो का महल सजायें हम,

    बहुत सुन्दर कामनाएँ की हैं आपने इस नज़म में।
    लफ्जों का बढ़िया चयन!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिस रात हूरें जुल्फों पे तेरी अफशां करें,
    उसी रात तुझे आगोश में ले अपना बनाएं हम!
    words are used very beautifully....
    full with emotions!!!
    Again a Beautiful Composition from your pen!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जिस रात हूरें जुल्फों पे तेरी अफशां(६) करें,
    उसी रात तुझे आगोश में ले अपना बनाएं हम!

    ek baar phir teri nazm ki taaref karein
    chalo ek baar phir ise gungunaayein hum

    -Sheena

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुंदर, गहरे भाव के साथ आपने भावपूर्ण रचना लिखा है! लाजवाब! हर एक शब्द दिल को छू गई!

    उत्तर देंहटाएं
  7. der se aaye bar durust aaye........ one word "excellent" aur han...shukriya aapne hamari baat rakhi

    उत्तर देंहटाएं