मंगलवार, 22 जून 2010

सावन के झूलों की तरह!

जब तुम दूर गए तो पतझड़ था,
बस तेज़ हवा और अंधड़ था,
अब लौट बसंत फिर आया है,
तुम भी आओ फूलों की तरह,
डालों पे जो हैं सूने पड़े,
तेरी बाहों को छूने खड़े,
आ के बाहों में तुम ले लो,
उन सावन के झूलों की तरह,
इंतज़ार और अब होता नहीं,
रातों में घंटो सोता नहीं,
पल पल जुदाई का अब तो,
चुभने सा लगा शूलों की तरह,
अब देर न कर खो जाऊंगा,
आगोश-ए-क़ज़ा(१) सो जाऊंगा,
आँचल में समो ले तू मुझको,
उड़ ना जाऊं राह की धूलों की तरह!
********************************************
(१) मौत की बाहों में
********************************************

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया गीत है!
    इसे देखकर हमारे यहाँ बारिश भी होने लगी है!
    --
    कल के चर्चा मंच पर इसे लगा दिया है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह सुरेन्द्र भ्रा जी ! आपकी ये सावन की भीगी बयार सी पंक्तियाँ और ऐसे में प्रियतमा के विरह-पीड़ा की बहुत भावुक कर देने वाली अभिव्यकि पढ़ कर बिना सावन के ही एक मीठी सी यादों की ठंडी लहर जैसे पूरे अंतर्मन में सिहरन से भर गई और तन-मन में एक सौंधी सी यादों की खुशबू छोड़ गई.. दिल से ढेरों शुभकामनाएं स्वीकार कीजियेगा.. और अपनी ऐसी ही मधुमास सा अहसास करवाने वाली रचनाओं की फुहारों से हमे भिगोते रहिएगा...आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. really
    bahut sunder bhavpuran likha hai apne..badhayee apne ahsaaso ko saflta purvak byaan kiya

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब देर न कर खो जाऊंगा,
    आगोश-ए-क़ज़ा(१) सो जाऊंगा,
    आँचल में समो ले तू मुझको,
    उड़ ना जाऊं राह की धूलों की तरह!


    Wah Wah!

    उत्तर देंहटाएं
  5. Hello ji,

    Excellent... here is another feather in your cap!
    Very beautifully written and what a climax!!

    Regards,
    Dimple

    उत्तर देंहटाएं
  6. Na ho hairaan; na ho pareshaan...sawan sang wo bhi aayega...bahut khoob :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमेशा की तरह भावपूर्ण और शानदार बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. पहली बार आना हुआ पर बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस गली में पहली दफे आना हुआ...........अच्छा लगा.......खूबसूरत प्रस्तुति के लिये साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावपूर्ण सुन्दर और मनमोहक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही बढ़िया, ख़ूबसूरत और मनमोहक गीत प्रस्तुत किया है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  12. सावन आने से पहले ही सावन के एहसास के लिए शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं