शनिवार, 26 जून 2010

मेरी पहली पंजाबी रचना!


कृपया तस्वीर पर क्लिक करें!
दोस्तों,

आज मैंने अपनी पहली पंजाबी रचना लिखी है! मेरे एक मित्र हैं हरप्रीत सिंह जो दुबई में रहते हैं उन्होंने मुझ से कहा एक दिन की आप क्यों पंजाबी में नहीं लिखते! तो मैंने सोचा की आज लिख कर देखूं कैसा परिणाम आता है!

आप लोगों में से कुछ पंजाबी शायद न पढ़ पाएं, इसीलिए अपनी रचना हिंदी में भी लिख रहा हूँ! अगर फिर भी किसी को समझना हो तो बे-हिचक मुझे ईमेल भेज दें!

पंजाबी फोंट स्वीकार कर रहा था मेरा ब्लॉगर टेक्स्ट बॉक्स सो पिक्चर लगा रहा हूँ उन दोस्तों के लिए जो पंजाबी पढना जानते हैं!



"पलकां नु विछाया सजणा"


अज कल्लेयाँ बैठे हंजुआं नु पुछेया मैं,
कानू इन्ना लम्मा विछोडा पाया सजणा,
जदों रो रो के टुट बैठी हार के मैं,
तेरी तस्वीर नु घुट छाती लाया सजणा,
अक्खां बंद कर सोचन लग्गी रब बारे,
तेरा चेरा अक्खां अग्गे आया सजणा,
तेरे सजदे गल्लां कर के कुज देर,
बलदी होई अग्ग नु बुझाया सजणा,
तेरे बाजों जी हुन्न लग्गदा नि मेरा,
रावां तक्क तक्क जी भर आया सजणा,
हुन्न देर न कर आ बना ले अप्पना,
तेरे लई पलकां नु मैं विछाया सजणा!

20 टिप्‍पणियां:

  1. kya baat kya baat kya baat...amazing..great work an d gud goin :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाख रोका औ मनाया, वो मगर ठहरी नहीं
    जग को दिखती ही नहीं पर चोट है गहरी कहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. kamaal kar ditaa....asi bhi thodi punjabi jaante si. ab blogger de naal rang jamega si .....ek punjab da munda mehfil nu jamaeya

    उत्तर देंहटाएं
  4. हालाँकि मुझे पंजाबी नहीं आती...पर भाव तो काफी हद तक पकड़ में आ ही गए....
    बढ़िया रचना...प्रयास जारी रखें...

    उत्तर देंहटाएं
  5. अक्खां बंद कर सोचन लग्गी रब बारे,
    तेरा चेरा अक्खां अग्गे आया सजणा,

    तुझमें रब दीखता है...यारा मैं क्या करूँ...

    वाह सुरेन्द्र जी वाह...बड़ी सोनी कविता लिखी है...बिरहों दे दर्द नू परकट करदी होई...वधाई ...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut hi lajwab hai sir ji.
    रावां तक्क तक्क जी भर आया सजणा,

    उत्तर देंहटाएं
  7. O ji Sat shri akal :)

    Tussi te hadd toh vi wadhh ho ;-)
    Kamaaaaaal kar ditta maalko :)
    Inni talent diyan boriyaan bhar-2 ke ki karna hai :D
    Mainu o gal yaad aa gayi twaadi ehh soni punjabi di rachnaa padd ke... "mainu sukne paa ke turr gayaa hai :-)"
    Chak de!!

    Best hai ji best :)

    Regards,
    Dimple

    उत्तर देंहटाएं
  8. भाजी सानूँ पंजाबी वी आऊँदी है तुसी लिखो असीं पढाँगे। बहुत सोहणे रचना है । बधाई पंजाबी दी शुरूआत लई मै वी कई बार पंजाब दी खुश्बू ब्लाग लई पंजाबी विच लिखिया पर आज कल समे दी घाट कर के नही लिख दी धनवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  9. I did follow the composition! Simply great!हुन्न देर न कर आ बना ले अप्पना,
    तेरे लई पलकां नु मैं विछाया सजणा! Wah!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे काम चलाने भर की पंजाबी आती है!
    --
    आपने बहुत सुन्दर रचना रची है!

    उत्तर देंहटाएं
  11. Maikya Bhaji!
    Chakke fat ditte!
    Punjab aaye hue panj mahine hi hue hain aje! Meri punjabi maadhi jya ghat hai! Par phir bhi tuhadi kavita de viccho Nusrat diyan jhalkiyan mainu najar aayee!
    Vadhiya.....
    Asi Rab kollon dua mangde han ki tuhada sajan chhetti aa jaawe.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. Though I do not understand Punjabi very much, but it was easy to interpret.

    Nice :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह जी वाह्……………गज़ब की रचना लिखी है……………मुझे ज्यादा पंजाबी तो नही आती मगर भाव सारे समझ आ गये……………बहुत अच्छी पकड है आपकी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. A brilliant attempt...
    visit Lafzan da Pul, a website that is a storehouse on punjabi (even how to use punjabi on internet). You'll find a lot of things there. Here's the link: http://www.lafzandapul.com/
    Keep writing!

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर और मधुर रचना
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  16. Paaji tusi te eh kamaal hi karta!!tuhanu bot bot dhanwaad meri request nu maan den da!! very very impressive!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. Bahut achhi rachna. Pehli koshish bhi kaamyaab !..

    Badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  18. जदों रो रो के टुट बैठी हार के मैं,
    तेरी तस्वीर नु घुट छाती लाया सजणा,
    "just lovable expressions.."

    regards

    उत्तर देंहटाएं