मंगलवार, 26 अक्तूबर 2010

नजाकत आ ही जाती है!

प्रिय मित्रों,
अपनी इस हास्य कविता की पहली पंक्ति मेरी नहीं है सो बहुत ही आदर के साथ मैं आप सभी से आज्ञा ले कर इसे प्रकाशित करना चाहूँगा! तो पेश-ए-खिदमत है, मेरी एक नयी हास्य कविता, आशा करता हूँ आप सभी को पसंद आएगी!

खुदा जब हुस्न देता है नजाकत आ ही जाती है,

खुशनसीब हैं वो कुड़ियां नियामत पा ही जाती हैं,

बदनसीब हैं वो लड़के जो राह चलते छेड़ें उन्हें,

गाहे बगाहे किसी न किसी की शामत आ ही जाती है,

बच जाते हैं जो खाली चप्पलें खा कर,

तन्हाई में चैन की सांसें लेते होंगे,

गलती से भी जो हत्थे चढ़ जाएँ इनके,

पीछा करते हुए ज़लालत आ ही जाती है,

ऊपर से गर तीन चार तगड़े भाई हो उनके,

फिर तो भैया क्या कहने धुनाई के,

अम्बुलेंस की ज़रूरत भी नहीं पड़ती है,

जनता अस्पताल पहुंचा ही जाती है,

या तो हुस्न-ओ-अदा हमें भी दे ए खुदा,

या छीन ले इन लड़कियों से भी,

चाकू उठाने की हिम्मत भले न हो,

क़त्ल करने की ताक़त आ ही जाती है!

22 टिप्‍पणियां:

  1. चाकू उठाने की हिम्मत भले न हो,

    क़त्ल करने की ताक़त आ ही जाती है!

    Hahahah... sahi hai bhaiya... shamat aa_hi jaati hai... ;))

    Bohot badiya...

    उत्तर देंहटाएं
  2. badiya hai
    man main dabi bhawnaon ko apne aaj sabko bata hi diya!!!!
    ;-)
    या तो हुस्न-ओ-अदा हमें भी दे ए खुदा,
    या छीन ले इन लड़कियों से भी,
    चाकू उठाने की हिम्मत भले न हो,
    क़त्ल करने की ताक़त आ ही जाती है!

    Good hai!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही उन्नत हाल्य है!
    --
    करवा चौथ पर सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी पोस्ट को बुधवार के
    चर्चा मंच पर लगा दिया है!
    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा हा हा हा हा हा हा हा व्यंग्य अच्छा है.....
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  5. बदनसीब हैं वो लड़के जो राह चलते छेड़ें उन्हें,

    गाहे बगाहे किसी न किसी की शामत आ ही जाती है,
    हा हा हा कहीं तुम्हारी शामत तो नही आयी कभी? खुदा खैर करे। अच्छी लगी व्यंग रचना। शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Hello SC,

    Kya fantastic likha hai aapne...
    Last lines are wonderful :)

    Regards,
    Stranger ;-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. खुदा जब हुस्न देता है नजाकत आ ही जाती है
    कदम गिन गिन कर रखते हैं कमर बल खा ही जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  8. हा हा हा!
    सुरेंदर भाई,
    ये चेंज पसंद आया!
    लिखते हैं सुरेंदर जब,
    छोड़ के रोमांस कोमेडी.......
    (बहुत ट्राई किया... क़यामत, शाफाकात, अदावत, बगावत, वगेहरा, वगेहरा.....)
    कुछ ठीक नहीं बना.....
    हा हा हा हा!
    आशीष
    ----
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. ग़ज़ल को क्या नया रंग बख्शा है.......मोहतरमा !!!!!

    बदनसीब हैं वो लड़के जो राह चलते छेड़ें उन्हें,

    गाहे बगाहे किसी न किसी की शामत आ ही जाती है,

    उफ्फ्फ......क्यों लड़कों को आईना दिखा रहीं हैं......!

    उत्तर देंहटाएं
  10. दीपावली के इस पावन पर्व पर ढेर सारी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर रचना. आभार.

    इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको और आपके परिवार को एक सुन्दर, शांतिमय और सुरक्षित दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपको और आपके परिवार को एक सुन्दर, शांतिमय और सुरक्षित दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  14. दीपावली की असीम-अनन्त शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही मजे दार रचना सुरेन्द्र साहब... बहुत ही जमीनी बात वो भी मजेदार तरीके से पेश किया आपने.. आभार..

    आप हमारे ब्लॉग पर आये, हमारा हौंसला बढाया.. बहुत-बहुत धन्यवाद आपका.. फुर्सत में फिर आईयेगा, आपका स्वागत है..

    उत्तर देंहटाएं