शुक्रवार, 22 जनवरी 2010

तेरे सजदे में!

कृपया तस्वीर पर क्लिक करें, आपको पढने में आसानी होगी!
धन्यवाद !

9 टिप्‍पणियां:

  1. rachna achi hai..magar padne me dikkat hui..ya to tasveer ka rang halka rakhe ya font ka.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. भई वाह..!
    बहुत खूब गजल लिखी है!
    फोटोशॉप मे जाकर इसे बहुत बढ़िया सजाया है।
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. दीवानगी सजदे में ......इतनी खूबसूरत .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. wow....vaddi romantic poem padne ko mil rahi hai.....naya tareeka accha hai...bas font size thoda chota kariye

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुरेन्द्र जी
    मज़ा आगया बेहतरीन प्रस्तुति
    दिन व् दिन निखर आरहा है आपकी लेखनी में
    बहुत बहुत आभार ..............

    उत्तर देंहटाएं
  6. Khoobsoorat rachna aur utni hi khoobsoorat prastuti...Waah !!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह क्या दिवानगी है तुम्हारी उर्दू बहुत अच्छी है । मुझे भी बता दो कहाँ से सीखी? बहुत अच्छी रचना है।बहुत बहुत आशीर्वाद्

    उत्तर देंहटाएं
  8. 'Tere sajde mein' ye sar jhukta hai ke itni khoobsurat rachna pesh ki hai...wonderfully written!

    उत्तर देंहटाएं