बुधवार, 17 मार्च 2010

वही कहते हैं!

अब कोई और काम नहीं रह गया,
हर पल तेरे ख्यालों में रहते हैं,
खमदार(१) गेसुओं में खोये हुए,
दिल की उलझने सुलझाते रहते हैं,
ना जाने की इबरत(२) गजरे ने दी थी,
बोले जुल्फों में बादल घने रहते हैं,
मैंने भी फिर चुपके से पूछा ये उसको,
क्या घटायें और पानी संग नहीं रहते हैं,
सन्न सा हुआ मेरे इस नजीर(३) पे,
बोला ये जुमले कहाँ से बहते है,
मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!

*******************************************
(१) घुंघराले (२) चेतावनी (३) उदाहरण
*******************************************

20 टिप्‍पणियां:

  1. अब कोई और काम नहीं रह गया,
    हर पल तेरे ख्यालों में रहते हैं,
    खमदार(१) गेसुओं में खोये हुए,
    दिल की उलझने सुलझाते रहते हैं,
    Pasand na aaye? Majal hai jo aisi rachana pasand na kare?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर गजल है!
    यह गजल के सभी मानकों पर खरी उतरती है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
    जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!....
    wah kya baat hai...ek bahut hee umdaa asha_aar liye umdaa rachana..AABHAR!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुरेन्द्र जी, बहुत अच्छा..........
    आप को मेरी रचनाओं का इन्तजार रहता है, जानकर बहुत खुशी हुई।इधर कुछ समय ब्लागिंग से दूर रहा, पर अब ये सफर जारी रहेगा।आप की रचना के लिये बहुत बहुत बधाई.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. तैनूँ पै गईयॉं ने गुँजलॉं बतेरियॉं।
    पेचोख़म से निकलो तो, कभी लाम देखना ये भी,
    सुना है ज़ुल्‍फ़ में कृष्‍णा की ये ही रहता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मैंने भी फिर चुपके से पूछा ये उसको,
    क्या घटायें और पानी संग नहीं रहते हैं!?
    मान ना पड़ेगा! सुरेंदर भाई, आनंद ही आनंद!
    www.myexperimentswithloveandlife.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. ना जाने की इबरत(२) गजरे ने दी थी,
    बोले जुल्फों में बादल घने रहते हैं,
    achi panktiyan hain...
    truly romantic!!!
    मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
    जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!
    lines bilkul fit beth rahi hain aap per ;-)
    Nice Composition!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक
    कौन जीता है तेरी जुल्फ के सर होने तक

    वाह सुरिंदर जी वाह...आनंद आ गया...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. सन्न सा हुआ मेरे इस नजीर पे,
    बोला ये जुमले कहाँ से बहते है,
    मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
    जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!

    sabne bahut tareef ki....aane mein der hui...lekin khata hamse hui nahi ye hamko pata hai :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. suredar bhai
    wah wah
    बोले जुल्फों में बादल घने रहते हैं,
    मैंने भी फिर चुपके से पूछा ये उसको,
    kya bat hai dost...........
    abhar...............

    उत्तर देंहटाएं
  11. मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
    जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!....
    waah....kya kah dala....bahut acche surinder sahab !

    उत्तर देंहटाएं
  12. मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
    जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!
    वाह तो आजकल शायर बन गये हो बहुत खूब तभी तो इतना अच्छा लिखने लगे हो ये मोहब्बत भी आदमी को क्या से क्या बना देती है। बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैंने भी फिर चुपके से पूछा ये उसको,
    क्या घटायें और पानी संग नहीं रहते हैं,
    sir likhte rahiye aap ke jumle ghta aur pani saath la denge
    mohabbat hi mohabbat h aapke geeton me

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह क्या बात है! बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल लिखा है आपने! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  15. Hello,

    Bahut hi umdaaaah... :)
    Romantic poetry likhna toh aapke baayen haath ka khel hai ;-)

    --- Aapke iss likhne ke art ke liye 2 lines meri taraf se...

    "Tareef mein teri kuch kahu kaise
    Alfaazo ki kummi ho gayi ho jaise"

    Aap bahut tarrakki karein :)
    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप जो कहते है
    बहुत खूब कहते है
    http://oldandlost.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. मोहब्बत ने शायर बना डाला मुझको,
    जो लरजता है दिल में वही कहते हैं!
    " वाह! बेहद खुबसूरत "
    regards

    उत्तर देंहटाएं