बुधवार, 24 मार्च 2010

तेरी यादें!


कृप्या तस्वीर पर क्लिक करें!

धन्यवाद!

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया
    http://qatraqatra.yatishjain.com/?p=99

    उत्तर देंहटाएं
  2. गज़ब के भावों से लबरेज़ यादें हैं………………बहुत ही सुन्दर्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत कलात्मक प्रस्तुति...वाह...अच्छी रचना...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. mujhe lagaa......ismen abhi kuchh gunjaayis hai....!!yun to bhaav kee drishti se acchhi hai...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया और ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. "अब मौत की बाहों में खुद को बुला लें!"

    हर शेर दाद के काबिल है!
    मुबारकवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझे निराशा पसंद नहीं, बस चार पंक्ति और जोड़ लें इस नज्‍़म में:
    मगर फिर ये सोचा कि तू बेवफा हो नहीं सकती,
    तू भी शायद मेरी तरह, मजबूर है, मुंतजि़र है,
    बेकरार है एक लम्‍हे के लिये, जब हम फिर मिलेंगे,
    बैठेंगे, बातें करेंगे, वादा करेंगे, फिर से मिलने का।
    आमीन।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही अच्छे भाव हैं..लेकिन ज़रा सा मैं श्रीमान तिलकराज जी की बात से भी सहमत हूँ...बाकी बहुत संदर यादें हैं...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. Behad dard bhari rachana...bhagvaan na kare, yah kisika asli jeeven ho!Ameen!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर रचना, लेकिन सच है, आशा पर आकाश टिका है, तब इतनी निराशा क्यों?

    उत्तर देंहटाएं
  11. हे प्रिय सुरेन तुम सदैव अच्छा लिखते हो। लेकिन तुम से आग्रह है कि तुम इनको टेक्सट ही रहने दो। जब कोई व्यक्ति गूगल पर सर्च करे तो फटाक से तुम्हारी कविता निकालकर सामने आ जाए। मुझे उम्मीद है, मेरे सुझाव पर तुम गौर करोगे।

    उत्तर देंहटाएं
  12. Hello,

    Aap iss tarah likhte rahenge toh chaahne waaley badte jaayenge :) jo aise kalaakar ko kaise marne denge ;-) hehe!
    Romantic poems ke baadshaah hai aap! Dil mein ghar kar gayaa har lafz aur chooh gayaa mann ko mere :)
    Bahut khoob.......... Umdaaaah

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. khud ko tadpaane humne phir se khat uthaaye
    kya karein, is tadap mein bhi apna ek alag maza hai

    -Shruti

    उत्तर देंहटाएं
  14. Hamesha ki tarah....khoobsoorat shabd sanyojan...Kulvant ji ki baat se sehmat hoon. Maut ka jikr thoda sa khala....

    Priya

    उत्तर देंहटाएं
  15. "chahte to hai par kaise bhula de"
    bahut hi khub.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छे भावों वाली कविता.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. Sahi hai Surender Bhai,
    Chahte to hain par kaise bhula dein!
    Kaash yaadon ko mitaana aasaan hota.......
    Behatareen, as usual!

    उत्तर देंहटाएं