मंगलवार, 25 अगस्त 2009

सिर्फ़ तेरे लिए!

बस इक बार जो तेरी हाँ हो जाए,
सपनो का महल तेरे लिए बनाऊंगा,
बर्क़तों से गुलज़ार ये जहाँ हो जाए,
तेरे सजदे में ये दिन रात बिताऊंगा,
दुनिया से चुरा के तुझ को मैं,
दिल की खामोश परतों पे सुलाऊंगा,
धडकनों का एहसासतेरे दिल को करा के,
तेरी साँसों को अपनी साँसों से मिलाऊंगा,
मयकश की तरह तेरी आँखों में डूब के,
मद के नशीले जाम पिए जाऊंगा,
होशो-हवास खो के जब गिरने लगूंगा,
यकीन है ख़ुद को तेरी बाहों में पाउँगा,
मस्जिद में सर झुका के जब दुआ करूँगा,
ता-उम्र तेरे संग रहने की फरियाद लगाऊंगा!

13 टिप्‍पणियां:

  1. हम भी आपके दुआ करेंगे ..कि 'वो ' हाँ कह दे ! आपके महल बन जायें..और ता-उम्र आबाद रहें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह क्या बात है! दिल की गहराई से लिखी हुई बहुत ही ख़ूबसूरत और रोमांटिक रचना दिल को छू गई! बहुत बढ़िया लगा! मुझे ये रचना बेहद पसंद आया!

    उत्तर देंहटाएं
  3. vaah bahut sundar bas haan ho jaye to mithhai jaroor khilavaiyega shubhakaamanayen sunder kavita hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. होशो-हवास खो के जब गिरने लगूंगा,
    यकीन है ख़ुद को तेरी बाहों में पाउँगा,
    jab aapko inta yakeen hai...
    to humen bhi yakeen hai ki uski han jarur hogi...
    bahut sunder shabdon main apni bhabnayn byakt ki hain..
    a good composition!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. bhut hi sundar sa khawab hai aap ka
    dua karugi ke ye khawab kabhi na tute

    ye patthar ki duniya hai ....
    khawabo ko samhale rakhna !!!

    le rakkha hai hattho main namak ....
    apne ghav is duniya se bacha kar rakhna !!!

    salamat rahe har rishta ....
    isi dua main apna haath uthay rakhna !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बस इक बार जो तेरी हाँ हो जाए,
    सपनो का महल तेरे लिए बनाऊंगा,
    बर्क़तों से गुलज़ार ये जहाँ हो जाए,
    तेरे सजदे में ये दिन रात बिताऊंगा,

    बल्ले बल्ले चावला जी बस जी तुसीं ते महल बना ही लओ हूँ .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर ख्वाहिश है .......आमीन ...........मै भी कही खो सा गया.........

    उत्तर देंहटाएं
  8. मस्जिद में सर झुका के जब दुआ करूँगा,
    ता-उम्र तेरे संग रहने की फरियाद लगाऊंगा!

    ==
    AAmeen

    -Sheena

    उत्तर देंहटाएं
  9. Hello,

    ता-उम्र तेरे संग रहने की फरियाद लगाऊंगा!
    A very romantic piece :-)
    Nicely written and perfect creation!

    Regards,
    Dimple
    http://poemshub.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं